रायसेन

अच्छी पहल : भिक्षावृत्ति मांग रहे 58 बच्चों और परिजनों को समाज की मुख्य धारा में जोड़ने की कवायद

रायसेन

रायसेन, 15 अक्टूबर 2019
महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा बरेली तहसील के छींद में भिक्षावृत्ति में संलग्न 58 बच्चों तथा उनके परिजनों से सम्पर्क कर भिक्षावृत्ति का मूल कारण पता लगाकर उन्हें समाज की मुख्य धारा में शामिल करने का काम किया जा रहा है। महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री ज्ञानेश खरे ने बताया कि भोपाल संभागायुक्त कल्पना श्रीवास्तव तथा कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव के निर्देश पर सुरक्षित नौनिहाल कार्यक्रम के तहत यह अभियान चलाया जा रहा है। 
जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री खरे ने बताया कि छींद में बड़ी संख्या में बच्चों द्वारा भीख मांगने की जानकारी मिलने पर महिला बाल विकास विभाग तथा चाईल्ड लाईन की टीम ने छींद पहुंचकर भिक्षावृत्ति मांग रहे सभी बच्चों तथा उनके परिजनों को बुलाकर भिक्षावृत्ति का मूल कारण जाना। अधिकांश बच्चों तथा उनके परिजनों ने बताया कि भिक्षावृत्ति से जो आमदानी होती है, उससे उनका गुजारा हो जाता है। श्री खरे ने बताया कि इन सभी बच्चों के परिजनों के नाम समग्र आईडी में जोड़े जाने की कार्यवाही की जा रही है ताकि इनके बीपीएल कार्ड बन सके और शासन की अनेक योजनाओं का लाभ मिल सके। 
उन्होंने बताया कि ऐसे 58 बच्चों तथा उनके परिजनों को चिन्हित किया गया है। इनमें अनेक बच्चों के स्कूलों में नाम दर्ज है तथा कई ड्राप आउट भी हैं। यह सभी बच्चे नियमित स्कूल जा सके, इसकी कार्यवाही की जा रही है। छींद में बच्चों तथा उनके परिजनों से चर्चा के दौरान महिला बाल विकास विभाग के श्री दिनेश मालवीय, श्री सुरेन्द्र बावरा तथा चाईल्ड लाईन की किरण गौर एवं शिवनारायण ने शिक्षा का महत्व बताने के साथ ही बच्चों के अधिकारों की जानकारी दी। 

नोशे खां की रिपोर्ट 

Follow Us On You Tube