रायसेन

93 लाख रूपए से अधिक राषि की 12 एप्रोच रोड की स्वीकृति मनरेगा योजना से होगा निर्माण

रायसेन

रायसेन, 11 अक्टूबर 2019

जिले की गैरतगंज जनपद पंचायत की 12 ग्राम पंचायतों में 12 एप्रोच ग्रेवल सड़क निर्माण की स्वीकृति प्रदान की गई है। मनरेगा योजना के अन्तर्गत 93 लाख से अधिक की राषि से आठ किलोमीटर से अधिक लम्बाई की सड़कों का निर्माण किया जाएगा।

जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री अवि प्रसाद ने जनपद पंचायत गैरतगंज की ग्राम पंचायत पटी, सुकर्रा, सोडरपुर, बासादेही, शोभापुर, देवनगर, किर्रोदा, किषनपुर, पेनगवां, खमरियागंज, गुंदरई एवं आलमपुर में एप्रोच सड़क के निर्माण मनरेगा योजना से किये जाने की अनुमति दी है। ग्राम पंचायत पटी में मुख्य मार्ग से शांतिधाम की ओर ग्राम पटी, सुकर्रा में मुख्यमंत्री सडक से शांतिधाम की ओर ग्राम सेमराजेरघाटी, सोडरपुर में ईजीएस स्कूल (प्रा0शाला) से सिघाड टोला की ओर, बासादेही में मुख्यमंत्री सडक से शांतिधाम की ओर ग्राम जामनपानी, शोभापुर में मुख्य मार्ग (सिमरिया रोड) से श्मशान घाट की ओर ग्राम शौभापुर, देवनगर में इमला मंदिर से प्रा0शाला (काछीपुरा) स्कूल की ओर ग्राम देवनगर, किर्रोदा में पुरूषोत्तम के घर से शांतिधाम की ओर ग्राम तरावली, किषनपुर में लिलगंवा रोड से टपरा टोला तक ग्राम किशनपुर, खमरियागंज में बिलवानी टपरा से बिलवानी तक ग्राम बिलवानी, पैनगवां में तुलसीराम कुश्वाह के उसरमेंटा की ओर ग्राम चांदोनी गढी, गुंदरई में सुमेरसिंह के घर से अगरियाकलां हाई स्कूल की ओर ग्राम हथनापुर एवं आलमपुर में भोपाल सगार रोड से शांतिधाम की ग्राम आलमपुर उक्त कार्यां की सक्षम स्तर से अनुमति मनरेगा अधिनियम एवं मध्यप्रदेश शासन पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के पत्र क्रमांक 3244 दिनांक 6.8.2019 के निर्देशों का पालन करते हुये दी गई है। इन 12 ग्राम पंचायतों में 8 किलोमीटर से अधिक लंबाई की सडक 93 लाख से अधिक की राषि व्यय कर, निर्माण कराया जायेगा। 

शासन से प्राप्त दिषा निर्देषानुसार जिन ग्राम पंचायतों में गोशाला परियोजना, शांतिधाम, स्कूल, आंगनबाडी, ग्रामीण हाट बाजार, स्वास्थ्य केन्द्र, पंचायत भवन, एवं पीडीएस की दुकान के लिये एप्रोच रोड नहीं है उनको जोड़ने हेतु ग्रेवल सडक का निर्माण किये जाने के निर्देष प्राप्त हुये है। इन सडकों की अनुमति जिन ग्राम पंचायतों में पूर्व से कोई ग्रेवल सडक का कार्य अपूर्ण / प्रगतिरत न हो एवं महात्मा गांधी नरेगा या अन्य कोई मद से कोई निर्माण न किया गया हो वहां मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत की अनुशंसा के आधार पर कार्यपालन यंत्री ग्रामीण यांत्रिकी सेवा से स्थल परीक्षण उपरांत मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत द्वारा स्वीकृति प्रदान की गई है। इन कार्यां पर मनरेगा प्रावधान के तहत मजदूरी सामग्री अनुपात 60ः40 की सीमा संधारित की गई है। इन कार्यां की सक्षम स्वीकृतियॉं निर्धारित समय-सीमा में अनिवार्यतः कर, कार्य पूर्ण कराये जाने एवं कार्य की गुणवत्ता, प्राक्कलन अनुसार होने के निर्देष दिये गये है। शेष जनपद पंचायतों में भी प्राप्त प्रस्तावों का परीक्षण कर, स्वीकृति प्रदान की जा रही है। शासन की मंषा अनुरूप ग्रामीणों को पहुच मार्ग की सुलभता के लिए इन सड़कों का निर्माण किया जा रहा है।

 

नोशे खां की रिपोर्ट 

Follow Us On You Tube